कभी ट्रंप पर लगाया था रूस की मदद लेने का आरोप, अब 'सेक्स स्कैंडल' में गिरफ्तार

0
4




बेलारूस की वो खूबसूरत मॉडल आपको याद है. हां! वही जिसने यह दावा किया था कि डोनाल्ड ट्रंप को अमेरिका का राष्ट्रपति चुनाव जिताने में रूस का हाथ है. और उसके पास इस बात के पुख्ता सबूत भी हैं. अब यह मॉडल मुश्किलों में फंस चुकी है. अंतासिया वाशुकेविच पर थाइलैंड में सेक्स ट्रेनिंग कोर्स शुरू करने का आरोप है. इस मामले में वह मंगलवार को कोर्ट में पेश हो चुकी हैं.

पुलिस ने पिछले साल फरवरी में पटाया में समुद्र किनारे एक रिसॉर्ट में छापा मारा था. उस वक्त वाशुकेविच और उनके छह सहयोगियों को हिरासत में ले लिया गया था. वाशुकेविच का एक नाम नास्तया रीबका (Nastya Rybka) भी है.

कोर्ट में वाशुकेविच बेहद निराश नजर आ रही थी. कोर्ट में उनके साथ 6 अन्य आरोपी भी हैं जो कई मामलों में फंस चुके हैं. रूस के एल्यूमीनियम टाइकून ओलेग डेरिपास्का के साथ पॉलिटिकल स्कैंडल में फंसने के बाद वाशुकेविच थाइलैंड चली गई थीं. ओलेग अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के पूर्व चुनाव अभियान निदेशक पॉल मनाफोर्ट के सहयोगी रह चुके हैं.

वाशुकेविच ने ट्रंप की जीत में रूस के सहयोग का किया था दावा

वाशुकेविच ने दावा किया था कि रूस ने ट्रंप को 2016 की चुनावी जीत में सहायता प्रदान की थी. उन्होंने दावा किया था कि वह इस मामले में ऐसे पहलू पेश कर सकती हैं, जो इन दावों को साबित कर सकते हैं. हालांकि उनके दावे को साबित करने के लिए कोई सबूत सामने नहीं आ पाए. साथ ही लोगों ने इसे एक पब्लिसिटी स्टंट बताया.

सेक्स ट्रेनिंग मामले में पुलिस ने आरोप लगाया है कि सेल्फ स्टाइल्ड रशियन सेडक्शन गुरु एलेक्स क्रिलोव के नेतृत्व में एक सेमिनार में थाई शालीनता कानूनों का उल्लंघन किया जा रहा था. गिरफ्तार लोगों के प्रवक्ता की हैसियत से काम कर रहे क्रिलोव ने कहना है कि उनलोगों को फंसाया जा रहा है.

गिरफ्तारी में अमेरिका की साजिश का जताया संदेह

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक कोर्ट में पहुंचने के बाद एलेक्स ने कहा कि किसी ने उन्हें गिरफ्तार कराने के लिए पैसे दिए हैं. इस समूह ने खुद को बेगुनाह बताते हुए कहा है कि वह सिर्फ यह सिखा रहे थे कि महिलाओं और पुरुषों को कैसे सेड्यूस किया जा सकता है और उनका कहना है कि वह किसी भी सेक्सुअल गतिविधि में शामिल नहीं हैं.

उनके समर्थकों का भी कहना है कि सेमिनार में रोमांस और रिलेशनशिप से संबंधित सुझाव दिए जा रहे थे. वाशुकेविच और क्रिलोव ने खतरे की आशंका जताते हुए कहा कि उन्हें डर है कि उन्हें वापस रूस भेज दिया जाएगा. उन्होंने गिरफ्तारी के पीछे अमेरिका का हाथ होने की संभावनाएं जताई हैं. हालांकि अमेरिका और रूस ने सार्वजनिक रूप से वाशुकेविच के बयान को खारिज कर दिया है. अमेरिकी विदेश विभाग ने इस कहानी को अजीब बताया है.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here