करोल बाग अग्निकांड: अर्पित होटल का मालिक दिल्ली एयरपोर्ट से गिरफ्तार

0
7




करोल बाग इलाके के अर्पित होटल में लगी आग में 17 लोगों की मौत हो गई थी. रविवार की सुबह आखिरकार होटल के मालिक को गिरफ्तार कर लिया गया. इससे पहले मालिक के गिरफ्तार न होने पर दिल्ली सरकार में मंत्री सत्येंद्र जैन ने आरोप लगाया था कि शायद बीजेपी पार्टी से संबंध होने के कारण होटल मालिक की गिरफ्तारी नहीं हो पा रही थी.

Delhi Police arrests the owner of Karol Bagh hotel where 17 people were killed in massive fire on Tuesday.

Pic: ANI pic.twitter.com/zlAlYMCGKC
— All India Radio News (@airnewsalerts) February 17, 2019

न्यूज़18 की खबर के अनुसार दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच के डीसीपी राजेश देव ने करोल बाग अर्पित होटल में आग लगने की घटना के लिए जिम्मेदार मालिक राकेश गोयल को दिल्ली एयरपोर्ट से गिरफ्तार कर लिया.

DCP Rajesh Deo on Karol Bagh hotel fire which killed 17 people: Delhi Police Crime Branch has arrested Rakesh Goel, the owner of hotel Arpit Palace. He shall be produced in court today. pic.twitter.com/flzvrxp8o3
— ANI (@ANI) February 17, 2019

इंडिगो फ्लाइट से लौटने की जानकारी कस्टम अधिकारियों को दी गई थी

क्राइम ब्रांच के डीसीपी ने बताया- हमें सूचना मिली थी कि होटल मालिक कतर से लौट रहा है. इंडिगो की फ्लाइट 6E 1702 से लौटने की जानकारी कस्टम अधिकारियों को दे दी गई थी. कस्टम अधिकारियों ने उसे हिरासत में लिया और फिर क्राइम ब्रांच को कस्टडी सौंप दी गई. आज आरोपी को कोर्ट में पेश किया जाएगा. बता दें कि होटल मालिक पर आरोप है कि होटल में पहले भी कई बार कार्रवाई हुई थी लेकिन इसके बावजूद नया फ्लोर बन गया.

मालिक पर होटल में आग की सूचना मिलने के बाद भी देर से पुलिस और फायर डिपार्टमेंट को सूचित करने का आरोप है. अग्निशमन सेवाओं के अनुसार इस त्रासदी को रोका जा सकता था लेकिन आग लगने की सूचना देने वाले अलार्म काम नहीं कर रहे थे और होटल में आग बुझाने का कोई साधन भी नहीं था.

दिल्ली सरकार ने 57 होटलों का फायर एनओसी कैंसल कर दिया है

अर्पित होटल की आग में 17 लोगों की मौत के बाद केजरीवाल सरकार ने दिल्ली के सभी होटल और गेस्टहाउस की जांच के आदेश दिए हैं. फायर डिपार्टमेंट और दूसरे सुरक्षा मानकों की जांच में कई होटलों और गेस्टहाउस में अनदेखी का मामला सामने आया है. दिल्ली सरकार ने तीन दिनों की जांच में ही 57 होटलों का फायर एनओसी कैंसल कर दिया है. इससे पहले दिल्ली बीजेपी के नेता विजेंद्र गुप्ता ने भी होटलों और गेस्टहाउस को एनओसी दिए जाने पर सवाल उठाए थे. हालांकि, दिल्ली सरकार का कहना है कि अर्पित होटल केस में एमसीडी की ओर से लापरवाही बरती गई है.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here