जवानी वापस मांगने के लिए कोर्ट पहुंचा 69 साल का ये बुजुर्ग, कोर्ट ने दिया यह जवाब

0
14




एमील रेटलबैंड डेनमार्क के मोटिवेशनल स्पीकर हैं, टेलीविजन पर्सनैलिटी हैं और पॉजीटिविटी गुरू हैं. उनकी उम्र 69 साल है लेकिन वो 49 साल के होना चाहते हैं. एमील 20 साल जवान महसूस करना चाहते हैं. अपनी ये चाहत पूरी करने के लिए उन्होंने एक अनोखा रास्ता भी चुना था लेकिन उनके हाथ निराशा ही लगी है.

टाइम की खबर के मुताबिक, एमील रेटलबैंड अपनी उम्र 20 साल कम करवाने के लिए कोर्ट पहुंचे थे. उन्होंने कोर्ट में अपनी उम्र कम करने की अर्जी डाली थी, जिसके लिए वो दुनिया भर में चर्चा में आ गए थे.

हालांकि कोर्ट से उन्हें निराश होना पड़ा. कोर्ट ने सोमवार को उनकी याचिका खारिज कर दी. कोर्ट ने कहा कि वो ऐसा आदेश नहीं दे सकती. हालांकि कोर्ट ने ये भी कहा कि वो मानसिक तौर पर जवां महसूस कर सकते हैं और वैसा ही व्यवहार कर सकते हैं, लेकिन कोर्ट उनकी उम्र कम करने का आदेश नहीं दे सकती.

ये भी पढ़ें: अब गंजे पुरुषों पर फिदा हो रही हैं लड़कियां, जान लें असली वजह

बीबीसी की खबर के मुताबिक, अर्नहेम कोर्ट ने एक प्रेस बयान जारी कर कहा कि ‘मिस्टर रेटलबैंड को इसकी स्वतंत्रता है कि वो मानसिक रूप से अपनी असल उम्र से 20 साल जवान महसूस करें और उसी तरह पेश आएं. लेकिन उनके जन्म के दिन को बदलने से उनके बर्थ, डेथ और मैरिज सर्टिफिकेट के अलावा और भी कई कानूनी दस्तावेजों में कई पेचीदगियां पैदा हो जाएंगी.’

कोर्ट ने ये भी कहा कि अगर रेटलबैंड की याचिका स्वीकार कर ली जाती, तो दस्तावेजों में उम्र बताने को अनिवार्य करना ही बेकार हो जाता क्योंकि किसी भी शख्स की कानूनी और सोशल प्रोफाइल उसके जन्म के दिन के आधार पर ही बनाई जाती है.

बता दें कि रेटलबैंड पिछले महीने अपनी इस अर्जी को लेकर कोर्ट पहुंचे थे. उनका तर्क था कि वो अपने उम्र को लेकर भेदभाव (age discrimination) झेलते हैं. इस पर कोर्ट का कहना था कि एक शख्स अपनी उम्र को लेकर कई तरीकों से सकारात्मक नजरिया अपना सकता है, लेकिन वो कानूनी रूप से अपनी उम्र नहीं बदलवा सकता.

ये भी पढ़ें: चिकन-मटन के जरिए आपके शरीर में पहुंच रहा है हानिकारक आर्सेनिक

वेबसाइट पिकल के मुताबिक, एमील रेटलबैंड सेल्फ-स्टाइल्ड यानी स्वघोषित पॉजिटिविटी गुरू हैं. उन्होंने कभी अपनी खुद की पॉलिटिकल पार्टी ‘रेटलबैंड लाइन’ भी बनाई थी. उन्होंने 2003 के डच इलेक्शन में चुनाव लड़ा था, लेकिन उनकी पार्टी को एक भी सीट नहीं मिली थी.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here