भाई पर आयकर की कार्रवाई के बाद मायावती ने पूछा- भाजपा दफ्तर के लिए अरबों रु. कहां से आए

0
11





लखनऊ.उत्तरप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने अपने भाई आनंद कुमार की बेनामी संपत्ति पर कार्रवाई को लेकर भाजपा और केंद्र सरकार पर निशाना साधा। आयकर विभाग ने गुरुवार को नोएडा में आनंद का 400 करोड़ रुपए कीमत का प्लॉट जब्त किया था। शुक्रवार को मायावती ने कहा कि अगरभाजपा नेता खुद को हरीशचंद्र मानते हैं तो अपनी भी जांच करवाएं। इससे पता चल जाएगा कि राजनीति में आने के बाद उनकी संपत्ति कितनी बढ़ी।

मायावती ने कहा, ”मोदी-शाह की जोड़ीसे मेरा सवाल कि दफ्तर बनाने के लिए अरबों रुपएकहां से आए, क्या ये बेनामी नहीं? चुनाव के दौरान 2000 करोड़ से ज्यादा भाजपाके खाते में आए, लेकिन अब तक इसका खुलासा नहीं हुआ। इसकी भी जांच होनी चाहिए। यदि वे (भाजपा) ऐसा सोचते हैं कि वो बहुत ईमानदार हैं तो उन्हें इस बात की जांच करानी चाहिए।”

‘दलितों को आगे बढ़ते नहीं देखना चाहती भाजपा’

बसपा सुप्रीमो ने कहाकि भाजपा और आरएसएस के लोग जातिवाद से ग्रसित हैं। शिक्षा और व्यापार में वेदलितों और अन्य पिछड़ी जातियों का विकास नहीं देखना चाहते। समस्याएं खड़ी करने के लिए वो कई तरह के रास्तों का प्रयोग कर रहे हैं लेकिन पार्टी दलित और पिछड़े लोगों के विकास का काम करती रहेगी।

‘मेरे भाई-बहनों को जबरन परेशान किया जा रहा’

इससे पहले गुरुवार रात मायावती ने ट्वीट किया- भाजपाकेंद्रकी सत्ता का दुरुपयोग कर अपने विपक्षियों को साजिश के तहत फर्जी मामलों में फंसाकर प्रताड़ित कर रही है। अब मेरे भाई-बहनों को भी परेशान किया जा रहा है।ऐसी ही घिनौनी हरकत भाजपा सरकार ने2003 में भी आयकर और सीबीआई के जरिए हमारे खिलाफकी थी। हमें संघर्ष के बादसुप्रीम कोर्ट से न्याय मिला।

आयकर विभाग ने जब्त किया था भाई का प्लॉट

गुरुवार कोआयकर विभाग ने नोएडा में 400 करोड़ रुपए की कीमत का7 एकड़ का एक प्लॉट जब्त किया था। प्लॉट का मालिकाना हक बसपा प्रमुख मायावती के भाई आनंद कुमार और उनकी पत्नी विचित्रलता के पास है। मायावती ने पिछले दिनों आनंद को बहुजन समाज पार्टी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नियुक्त किया था।

आनंद ने करीबी के नाम पर प्लॉट खरीदा था
अधिकारियों के बताया कि 16 जुलाई को दिल्ली की बेनामी निषेध इकाई (बीपीयू) ने इस प्लॉट को जब्त करने का आदेश दिया था। आनंद कुमार ने यह संपत्ति अवैध तरीके से किसी करीबी के नाम पर खरीदी थी। दो साल की जांच के बाद इस बात के पुख्ता सबूत आयकर अधिकारियों को मिल चुके हैं। इससे पहले भी आनंद को बेनामी संपत्ति के मामले में नोटिस भेजे जा चुके हैं।

मायावती के सत्ता में आने के बाद भाई की संपत्ति बढ़ी
आनंद कुमार कभी नोएडा प्राधिकरण में क्लर्क हुआ करते थे। मायावती के यूपी के मुख्यमंत्री बनने के बाद उनकी संपत्ति तेजी से बढ़ी। आनंद पर फर्जी कंपनी बनाकर करोड़ों रुपए कर्ज लेने का आरोप भी लगा था। 2007 में मायावती की सरकार आने के बाद आनंद ने एक के बाद एक 49 कंपनियां खोली थीं।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


BSP Chief Mayawati: BJP should look at themselves, if they think they are very honest



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here